मुजफ्फरपुर यौन उत्पीड़न कांड – दिल्ली के जंतर-मंतर पर पूरा विपक्ष एकजुट

muzaffarpur-shelter-home-rape-case-opposition-united-against-nda

मुजफ्फरपुर यौन उत्पीड़न कांड में प्रतिदिन नए खुलासे हो रहे है. ताजा खुलासे के अनुसार बालिकाओ के स्वास्थय जांच से सम्बंधित कोई भी डॉक्यूमेंट सिविल सर्जन कार्यालय में उपलभ्ध नहीं है जबकि बालको से सम्बंधित सारे दस्तावेज उपलभ्ध है. नियमो के अनुसार बाल सुरक्षा गृह में रहने वाले १८ वर्ष आयु से काम सभी बच्चो का सप्ताह में २ बार स्वास्थय जांच अनिवार्य है.

माना जा रहा है की इस काण्ड को छुपाने के लिए बालिकाओ से सम्बंधित दस्तावेज नष्ट करने का प्रयास किया जा रहा है.

इस मामले को लेकर अब सारा विपक्ष एकजुट हो रहा है. दिल्ली के जंतर मंतर में विपक्ष के बड़े बड़े नेता इक्कठे हुए. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी से लेकर, लालू प्रसाद यादव के बड़े सुपुत्र तेजस्वी यादव और दिल्ली के बड़बोले मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल सब लोग जमा हुए थे. सभी लोगो ने इस कांड के कड़े शब्दों में भत्सर्ना की और कहा की दोषियों के खिलाफ कड़ी करवाई करनी चाहिए.

तेजस्वी यादव ने तो यहाँ तक कहा की इस कांड के मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर को फांसी की सजा दी जानी चाहिए. ज्ञात रहे की बृजेश कुमार के एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति को बालिका गृह चलाने का जिम्मा बिहार सरकार ने सौंपा था. बृजेश कुमार बिहार के मुजफ्फरपुर का ही रहने वाला है और इसके पिता ने एक दैनिक अख़बार शुरू किया था जिसका नाम प्रात: कमल था.

विपक्ष के सभी नेताओ के भाषणो से एक बात पक्की थी की वो लोग जितना बालिकाओ के लिए न्याय को लेकर चिंतित थे उससे ज्यादा ध्यान उन लोगो का नीतीश और मोदी सरकार के खिलाफ बयानबाजी में था. विपक्ष ने एक सुर में कहा कि नीतीश कुमार नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दें.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*